जिसे आज तक समझते आ रहे थें छोटा मोटा एक्‍टर, वो है मशहूर अभिनेता कादर खान का बेटा

बॉलीवुड इंडस्ट्री में पेरेंट्स अपने बच्चो के करियर को लेकर बहुत फ़िक्र करते है। बॉलीवुड इंडस्ट्री में पेरेंट्स अपने अपने बच्चो को लॉन्च करने के लिए अपनी पूरी जान लगा देते है। इस लिए क्यूंकि वो अपने बच्चो को सेट करना चाहते है लाइफ में। बॉलीवुड ने कुछ पेरेंट्स के बच्चे ऐसे भी है जो एक्टिंग में दिलचप्स नहीं रखते है और उनमे हीरो या हेरोइन बनाने का टैलेंट बिलकुल भी नहीं होता है। इसे डर से पेरेंट्स अपने बच्चो को लॉन्च करने से डरते है।

स्टार पेरेंट्स के बच्चो ने हिम्मत नहीं हारी और कोशिश करते रहे और फिर वो दिन आया जब उन्होंने एक मुकाम हासिल किया। जब उसके पेरेंट्स का सर गर्व से ऊंचा हो गया है। और उनको बहुत खुसी मिले है।

बॉलीवुड इंडस्ट्री के मशहूर एक्टर और डायलॉग राइटर ‘कादर खान’ के बेटे ‘सरफराज खान’ ऐसे ही स्टार बच्चों में से एक हैं। पिता मशहूर एक्टर है। कदर खान के घर में एक्टिंग का माहौल है। बचपन में जब वो टीवी देखते थे उनका भी मन था की वो भी एक्टिंग करे और बड़े एक्टर बने।

कदर खान के घर में एक्टिंग का माहौल को देखते हुए सरफराज ने भी एक्टर बनने के बारे में सोच लिया था बचपन में ही। लेकिन सरफराज ने कभी अपने पिता को अपने इस सपने के बारे में नहीं बताया था। सरफराज चाहते थे की वो अपने फादर की मदक से अपना सपना पूरा नहीं करना कहते थे।

कादर खान कभी नहीं चाहते थे की उनके कोई भी बच्चे बॉलीवुड इंडस्ट्री में काम करे। कदर खान चाहते थे की उनके बच्चे पहले अपनी पड़े पूरी करे। और अपनी लाइफ को एन्जॉय करे। सरफरज की पढ़ाई पूरी होने के बाद में अपना सपना अपने पिता (कादर खान) को बताया तो कदर खान ने साफ़ साफ़ इंकार कर दिया सरफरज को।

सरफरज ने अपने पिता (कादर खान) से मना सुन कर उनके दिल को बहुत दुःख हुआ क्योकि वो उनका सपना था की वो एक एक्टर बने। दिल कहा किसी की सुने वाला था। सरफराज ने ठान ले की वो कुछ बन कर देखिए थे। सरफराज की किस्मत भी इतने अच्छी है की उनको कुछ ही दिन में फिल्म में काम करने का मौका मिल गया था। पर सरफराज फिल्मो में अपनी पहचान नहीं बना सके।

हम आपको बता दे की सरफराज खान ने सलमान खान के साथ भी काम किया है। फिल्म ‘तेरे नाम’ और ‘वांटेड’ जैसी सुविर्हित फिल्मो में काम किया है। सरफरज अभी तक किसी फिल्म में हीरो के किरदार में नहीं आये है।

सरफराज खान भरे है हीरो ना बन पाए है। सरफराज को इस बात का अफ़सोस नहीं है। सरफराज का हीरो बनाने का सपना नई एक्टर्स और कर रहे है। सरफराज खान की आज एक एक्टिंग अकादमी चला रहे है। जिसमे कई नए नये लड़के और लड़किया एक्टिंग सिख रहे है। और सफ़रज खान का सपना पूरा कर रहे है।

 

सरफराज खान ‘एक्टिंग अकेडमी’ के अलावा ‘थिएटर ग्रुप’ भी चला रहे है। जिसका नाम ‘कल के कलाकार इंटरनेशनल थिएटर कंपनी’ के नाम से है। सरफराज अपने इस ग्रुप के जरिये बहुत प्ले कर चुके है।

‘ताश के पत्ते’, ‘लोकल ट्रेन’, ‘बड़ी देर की मेहमान आते आते’ जैसे कई नाटकों के जरिए सरफराज खान ने थियेटर की दुनिया में अपना नाम कमाया है।

सरफराज खान अपने पिता कादर खान को कई फिल्मो में असिस्ट डिरेटर भी काम कर चुके हैं। सरफराज खान इसके अलावा वो कई प्रोडक्शन कंपनी भी चला रहे हैं।

सरफराज खान फिल्मों के बादशाह भले ही ना हों लेकिन वो थियेटर और प्रोडक्शन में उनका कोई मुकाबला नहीं कर सकता है। हम आपको जानकारी दे दे की सरफराज खान ‘होटल मैनेजमेंट’ में ‘डिप्लोमा’ भी कर चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *