जानिए पीरियड्स को लेकर बॉलीवुड अभिनेत्रियों की खुली राय…

पीरियड्स को लेकर हमारे समाज में कोई भी खुलकर बात नहीं करना चाहता|हर कोई इस विषय पर बात करने से झिझक महसूस करता है|कोई अगर खुल कर इस विषय पर बात करे भी तो दूसरे लोग बोलने वाले का मुंह ऐसे देखते हैं जैसे उसने कोई गुनाह कर दिया हो|लेकिन सोचने वाली बात है कि हमारे समाज में पीरियड को लेकर लोगों की मानसिकता ऐसी क्यों है ? आज हम अपने आप को मॉर्डन बताते हैं, खुले विचारों वाले बताते हैं|लेकिन हमारे शरीर में होने वाली प्राकृतिक प्रक्रिया पीरियड की बात जब आती है तो हमारा सोच संकुचित हो जाता है|इसमें आखिर बुराई क्या है ? आमतौर पर जब कोई अभिनेता या अभिनेत्री पब्लिक प्लेस में होती हैं,किसी इवेंट में या फिर किसी फिल्म के प्रमोशन के मौके पर मौजूद रहती हैं, तो वे अपने फिल्मों के बारे में हीं बातें करती हैं|बॉलीवुड इंडस्ट्री में भी ऐसी कम हीं अभिनेत्री हैं जो किसी मुद्दे पर खुलकर अपनी बात रखती हैं|

बॉलीवुड की उन्हीं गिनी-चुनी अभिनेत्रियों में से कुछ ने पहली बार महिलाओं से जुड़े पीरियड के विषय पर खुलकर अपनी बातें रखी हैं|तो चलिए जानते हैं पीरियड्स को लेकर सितारों की राय:

1.परिणीति चोपड़ा

बॉलीवुड की बबली गर्ल परिणीति चोपड़ा अपनी बेबाक राय के लिए जानी जाती हैं. हर विषय पर परिणीति चोपड़ा खुलकर बात करती हैंं. परिणीति की मानें तो उनका कहना है कि ‘ये मेरी समझ से बाहर है कि लोग पीरियड्स जैसी बात को छुपाकर क्यों रखते हैं. मैं छोटे शहर से ताल्लुक रखती हूं. वहां कई तरह के नियम बनाए हुए हैं. जैसे पीरियड्स के दौरान आचार नहीं खाना चाहिए, बाल नहीं धोने चाहिए, मंदिर जाने की मनाही इत्यादि. और ना जाने कैसी-कैसी परंपराएं पीरियड के नाम पर बनी हुई हैंं. जो महिलाओं को व्यतीथ करने का काम करती हैं. आवश्यकता है समाज के लोगों की सोच को बदलने की. मैंने इन सारे नियम को तोड़ा है. मैं इन सब से ऊपर उठकर सोचती हूं. और चाहती हूं कि हर कोई अपनी सोच को बदल डाले|

2. करीना कपूर

यूनिसेफ के कार्यक्रम के दौरान बॉलीवुड की खूबसूरत अभिनेत्री करीना कपूर ने महिलाओं के होने वाले पीरियड्स के बारे में खुलकर बात करते हुए बोला कि ‘मुझे इस बात की खुशी है कि महिलाओं से जुड़ी इस बात को बंद कमरे से निकल कर खुले तौर पर किया जा रहा है.’ करीना ने ये भी कहा कि ‘ईश्वर ने महिलाओं को बनाया है. और पीरियड भी उन्हीं की देन है. इसमें शर्म वाली क्या बात है.’ महिलाएं पूरे महीने काम कर सकती हैं. उंन्हें पीरियड्स के दौरान किसी भी स्पेशल ट्रीटमेंट की आवश्यकता नहीं. बस हर महिलाओं को इस दौरान सफाई का बेहद खास ध्यान रखना चाहिए|

3. स्वरा भास्कर

इंटरनेशनल गर्ल्स डे के मौके पर स्वरा भास्कर ने भी अपनी बेवाक राय देते हुए पीरियड्स के बारे में कहा कि ‘महिलाओं को अपने मन से इस डर को निकाल फेंकना चाहिए|पीरियड्स को लेकर उन्हें किसी तरह का बहाना नहीं बनाना चाहिए|ये एक प्राकृतिक प्रोसेस है और इस पर खुलकर बात होनी चाहिए|

4. श्रद्धा कपूर

बॉलीवुड इंडस्ट्री की जानी-मानी अभिनेत्री श्रद्धा कपूर ने भी पीरियड्स पर अपनी बेबाक राय रखी है. श्रद्धा ने अपने स्कूल के दिनों की बात शेयर करते हुए बताया कि पीरियड्स के दौरान वो स्कूल बंक नहीं किया करती थींं. हां लेकिन पीरियड्स को लेकर वो खुलकर बात करने से कतराती जरूर थी. श्रद्धा कपूर ने बताया कि किस तरह वो लड़कों को चिढ़ाया करती थीं. श्रद्धा कहती हैं ‘लड़के हमारी इस बात को समझ नहीं पाते थे तो मैं उनसे यही कहती अभी मैं अपने स्पेशल टाइम में हूं. तब लड़कों के एक्सप्रेशन देखने वाले रहते थे|

5. कृति सैनॉन

कृति सैनॉन का कहना है कि ‘उत्तर भारत की 58% महिलाएं आज भी इस बात को मानती हैं कि पीरियड्स के दौरान अचार छूने से सड़ जाते हैं और 60% महिलाओं को सेनेटरी नैपकिन के ऐड देखकर शर्मिंदगी महसूस होती है. मुझे समझ नहीं आता कि लोगों को इस बात से शर्मिंदगी क्यों महसूस होती है. जबकि ये एक प्राकृतिक प्रोसेस है. और इस पर खुलकर बात होनी चाहिए|

6. कल्कि कोचलिन

कल्कि कोचलिन भी मानती हैं कि इन सब बकवास बातों को खत्म करने की आवश्यकता है. ये एक नेचुरल प्रोसेस है. मैं कभी भी खुद को इनसब में बांधकर नहीं रख सकती. मेरा पेशा ऐसा है कि मुझे हमेशा ट्रेवल करना रहता है. मैं कामकाजी महिला हूं. और अगर मैं इन सब में बंध कर रही तो नहीं चलने वाला. किसी भी महिलाओं को इसे बंधन के रूप में नहीं समझना चाहिए|

पीरियड्स हमारे शरीर में होने वाली बहुत सारी प्राकृतिक प्रक्रियाओं में से एक है|इसीलिए इससे जुड़े सभी अंधविश्वासों को हमे खत्म कर देना चाहिए और एक नये समाज की और बढना चाहिए|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *